शुक्रवार, 2 जनवरी 2015


                         ग़ज़ल

दे     रहा    आवाज़    कोई    खिड़कियाँ    तो    खोलिए   
रंज     है    नाराज़गी     है   बात    क्या    है     बोलिए 

दुश्मनी   का  क्या   किसी   से  भी   कहीं  भी  कीजिये    
दोस्ती    करने    से     पहले   आदमी    को     तोलिए 

रोज़    उनको    देखते    हैं    और    कहते   हैं   ग़ज़ल   
वो   हमारे   हों     होँ   हम  तो  उन्ही  के  हो   लिए 

रात    देखा   मुस्कुराते    ख़्वाब   में  माँ -  बाप   को     
ज़िन्दगी   के   पाप   सारे   एक   पल   में  धो    लिए 

था   यही  डर   शाईरों   की   ज़ात   ना   बदनाम    हो      
महफिलों   में  मुस्कुराए    कागज़ों    पे   रो   लिए 

सिर्फ    'तनहा'   चाशनी    से   ज़ाइक़ा   आता   नहीं    
ज़िन्दगी   में   आंसुओं   का   भी  नमक  तो  घोलिये 

         -  प्रमोद  कुमार  कुश 

       

1 टिप्पणी:

GathaEditor Onlinegatha ने कहा…

publish ebook with onlinegatha, get 85% Huge royalty,send Abstract today
SELF PUBLISHING| publish your ebook